Sip meaning in Hindi, Sip Benefits in Hindi.

SIP क्या है? Sip meaning in Hindi ?

हर एक आदमी अपने खुशहाल जिंदगी के लिए मेहनत करता है. पैसा कमाता है. पैसा बचाने की कोशिश करता है.अपने पैसे को एक अच्छी जगह भी निवेश करना चाहता है.

 

SIP-क्या-है-Sip-meaning-in-Hindi



जहां से उस पैसे का अच्छा रिटर्न मिल सके.दोस्तों हमें मालूम है कि पैसा निवेश करने के अनेक तरीके है जिसमें हम बैंक एफडी, बैंक आरडी,सोना, चांदी जमीन या प्लॉट में इन्वेस्ट करते है.

 

अपने पैसे निवेश करने का और एक सबसे आसान तरीका है  म्यूच्यूअल फंड आप म्यूचुअल फंड में निवेश करके अपने लंबी अवधि के जीवन के उद्देश्य सफल कर सकते है.

 

जैसे कि बच्चे की पढ़ाई, लड़की की शादी, या अपनी रिटायरमेंट के बाद के खर्चे. इन सभी के लिए आप म्यूचुअल फंड में थोड़ा थोड़ा SIP के द्वारा निवेश कर सकते हैं.

 

तो चलिए जानते है SIP क्या है? Sip meaning in Hindi ?

 

SIP meaning in Hindi. SIP (एस आई पी) क्या है?

 

SIP यह म्यूचुअल फंड में निवेश करने का एक तरीका है.

 

SIP का Full form सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान हैं. इसका मतलब है सुनियोजित निवेश.

 

आप SIP के द्वारा हर महीने कम से कम ₹500 से म्यूच्यूअल फंड में निवेश कर सकते है. आपका निवेश हर महीने म्यूचुअल फंड में किसी एक स्कीम में निवेश होता जाएगा.

 

म्यूचुअल फंड में निवेश करने के बाद आपको उस निवेश के बदले यूनिट्स मिलते हैं. और इस यूनिट की वैल्यू एनएवी पर आधारित रहती है. मान लीजिए आपके पास ₹500 का निवेश किया है.

 

Mutual fund के किसी एक स्कीम की NAV ₹5 है. तो आपको 100 यूनिट आपके अकाउंट में दिए जाएंगे. और कुछ साल बाद अगर NAV बढ़कर ₹15 होती है. तो आपको आपके ₹500 के 1500 रुपए मिलेंगे.

 

फंड आप से लिए हुए पैसे आपने जो म्यूच्यूअल फंड स्कीम में निवेश करने हेतु पैसे डाले हैं  इस स्कीम  के पोर्टफोलियो में बताए गए स्टॉक में निवेश करते हैं जिससे स्टॉक की वैल्यू बढ़ने से आप की NAV भी बढ़ती है.

 

SIP कैसे काम करती है?

 

SIP मे निवेश करने के लिए सबसे पहले आपको किस म्यूच्यूअल फंड  कंपनी में निवेश करना है यह चुनना है.

(भारत में बहुत सारे  म्यूच्यूअल फंड एसआईपी  प्रोवाइड करते है)

 

म्यूच्यूअल फंड कंपनी सेलेक्ट करने के बाद आपको उस कंपनी में जितने स्कीम है उसमें से एक स्कीम को चुनना है.

 

अपने म्यूच्यूअल फंड स्कीम  सिलेक्ट करने के बाद आपको आपकी राशि सिलेक्ट करनी है.( यानी कितने रुपए आप हर महीने एसआईपी में निवेश करना चाहते है)

 

उसके बाद आपको आपकी राशि बैंक का अकाउंट से ऑटोमेटिक  डिडक्शन के लिए  मासिक, अर्धवार्षिक,या सालाना इनमें से एक सिलेक्ट करना है.

 

यानी आप  आपकी राशि  हर महीने या साल में एक बार म्यूचल फंड स्कीम में निवेश करना चाहते हैं इसके लिए यह जानना जरूरी है.

 

उसके बाद आपको आपके बैंक खाते का डिटेल देना पड़ेगा इससे आप के बैंक खाते से ऑटोमेटिक हर महीने एसआईपी अकाउंट में ट्रांसफर हो जाए.

 

 इस तरह हर महीने आपके बैंक का अकाउंट से आपकी एसआईपी स्कीम में निवेश हो जाएंगे.

 

SIP के फायदे? Benefit of Sip in Hindi?

 

  • एसआईपी यह एक इक्विटी मार्केट में निवेश करने का सबसे आसान तरीका है.
  • आप कम से कम ₹500 से शुरुआत करके SIP मे निवेश कर सकते है.
  • आपको हर महीने निवेश की आदत होती है.
  • आपको शेयर मार्केट को समय देने की जरूरत नहीं पड़ती.
  • आप आपके हिसाब पैसे इन्वेस्ट या विड्रोल कर सकते है. अगर आपके SIP अकाउंट मैं ₹50000 है और आपको पैसे की जरूरत है तो आप उसमें से चाहे उतनी amount निकाल सकते है.
  • अल्बर्ट आइंस्टाइन ने कहा है कि पावर आफ कंपाउंडिंग दुनिया का आठवां अजूबा है जो लोग पावर आफ कंपाउंडिंग को समझते है वो लोग अमीर बन जाते है. 
  • तथा जो लोग पावर आफ कंपाउंडिंग का महत्व नहीं समझते वह लोग गरीब ही रहते हैं. इसी तरह आप SIP मे 
  • थोड़ी-थोड़ी रकम जमा करके पावर आफ कंपाउंडिंग का फायदा ले सकते हैं. 

SIP कितने दिन कर सकते है?

SIP आप कम से कम 6 महीने से लेकर ज्यादा से ज्यादा कितने भी साल कर सकते हैं वह आपके एसआईपी डिपॉजिट के ऊपर डिपेंड करता है.

आप कितने भी दिन के लिए ऐसा भी कर सकते हैं जितनी ज्यादा यस आई पी आप भरते हैं.

उतना ही आपको फायदा मिलता है और आपका पैसा बढ़ने लगता है तथा आपको पावर आफ कंपाउंडिंग का फायदा मिलने लगता है.

एसआईपी द्वारा की गई इन्वेस्टमेंट इक्विटी मार्केट में होती है इसलिए कम से कम 5 साल और ज्यादा से ज्यादा 25 साल तक आप ऐसा ही करें ताकि आपको अच्छा बेनिफिट मिलेगा.

 

क्या SIP पर टैक्स बेनिफिट मिलता है?

 

Sip टैक्स बेनिफिट सिर्फ ईएलएसएस फंड में मिलता है. इसे हम इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम कहते हैं.

 

इस तरह की फंड में एसआईपी करके आप टैक्स बेनिफिट का फायदा ले सकते हैं. दूसरे फंड में और इस फंड में अंतर सिर्फ इतना होता है.

कि आपको इस तरह के फंड कम से कम 3 साल रखने पड़ते हैं.

 

दोस्तों लंबी अवधि के लिए सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान यानी एसआईपी अच्छा साधन है आप SIP करके आपका भविष्य उज्जवल और समृद्ध बना सकते है.

 

Disclaimer-

एसआईपी में निवेश इक्विटी मार्केट पर आधारित रहता है. किसी भी फंड में निवेश करने से पहले अपने फाइनेंसियल एडवाइजर की सलाह लें. क्योंकि इक्विटी मार्केट में निवेश करना जोखिम पूर्ण होता है.

 

 

 

 

 

Leave a Comment